0
loading...
जानी वाकर एक नाम जिसे हर वो बंदा जानता है जो फिल्म इंडस्ट्री से वास्ता रखता है |  जानी वाकर एक नायक का फ़िल्मी नाम है इनका असल/ वास्तविक नाम बदरुद्दीन जमालुद्दीन काजी था | इनका जन्म स्थान इंदौर है |

इनका जन्म इंदौर में १५ मै, १९२३ को हुआ | आपके पिताजी एक मिल वर्कर थे | जब इंदौर कि मिले बंद हो गई तो आप लोग मुंबई चले गए | १५ लोगो का परिवार संभालना काफी मुश्किल था इस कारण से ५ सदस्य कम उम्र में ही स्वर्गवासी हो गए | तब आपने मुंबई कि बेस्ट में कंडक्टर के रूप में कार्य किया | आप दादर बस डीपो में पदस्थ थे |

आपको फिल्मो में लाने का श्रेय अभिनेता और पटकथा लेखक बलराज साहनी को जाता है | जब आप बस में कार्य कर रहे होते तो यात्रियों का अपनी विभिन्नं हावभावो से मनोरंजन करते थे | इस कारण से बलराज सहनी आकर्षित हुए | तब बलराज साहनी फिल्म बाजी फिल्म पर कार्य कर रहे थे और आपने इस फिल्म से पदार्पण किया और आपकी दोस्ती गुरुदत्त से बहुत अच्छी हो गई थी | जिस कारण से उनकी लगभग हर फिल्म में आप होते थे | और आप ही वो पहले हास्य नायक थे जिन पर वो मशहूर गीत "सर जो तेरा चकराए या दिल डूबा जाए " फिल्माया गया था |

आपने अभिनेत्री नूर से विवाह किया  जिनसे आप Mr. & Mrs. 55 के सेट पर मिले थे आपके तीन पुत्र और तीन पुत्रिया है |

आपको मुख्य रूप से क.इ.डी. फिल्म के "ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ, ये है बॉम्बे मेरी जान " और "सर जो तेरा चकराए या दिल डूबा जाये " फिल्म प्यासा से |
...

Post a Comment

 
Top